काका हाथरसी के कहकहे

जीवन की इन सभी विसंगतियों को देखकर काका हाथरसी ने अपने देश के छात्रों पर सीधे-सीधे व्यंग्य न करके वक्रोक्ति को साधन के रूप में स्वीकार किया । प्रतीत ऐसा होता है कि काका छात्रों को प्रेरित कर रहे हैं,…

भूपेन हजारिका : चुपके चुपके हम पलकों में सदियों से रहते हैं

भूपेन हजारिका
आसाम का लोकसंगीत हो तो केवल भूपेन हजारिका ही याद आते हैं | चाहे आसाम का बीहू संगीत हो, या वहाँ की पहाड़ियों और नदियों मे प्रतिध्वनि होती स्वरलहरियाँ हों, इन सबको गायक और संगीतकार दोनों रूपों में जाह-जहां तक…

ईश्वर का द्वंद्व

1. उस स्त्री का जीवन दो पहलुओं में बँटा हुआ था। उसने दो प्रेम किए और दो अलग-अलग पिताओं की दो अलग-अलग संतानों को जन्म दिया। वह जब बहुत छोटी थी तब से जॉब और रोजर से प्रेम करती थी।…

अभिनेता की निजी स्वायत्तता

कहा जाता है कि सृजन की कोई विधि नहीं हो सकती क्योंकि सृजन में सबसे मुख्य बात है प्रत्येक कलाकार की अपनी युक्तियाँ, अपने साधन, और उससे भी बड़ी चीज है हर कलाकार का अपना विजन। लेकिन नाटक और फिल्में…
error: Content is protected !!